Old Coins Bazaar

Mushroom Subsidy: किसानों को इस फसल की खेती करने पर सरकार दे रही है 10 लाख रुपए, ऐसे उठाएं फायदा

किसानों को आगे बढ़ाने के लिए सरकार के द्वारा कई कदम उठाए गए हैं. बिहार सरकार प्रदेश के छोटे और सीमांक किसानों को मशरुम की खेती करने के लिए प्रेरित कर रही है. इसके लिए किसानों को सरकार की तरफ से मदद दी जा रही है.
 | 
Mushroom Subsidy

Old Coin Bazaar, Digital Desk, Bihar: बिहार में किसान पारंपरिक फसलों के साथ- साथ बागवानी फसलों की भी जमकर खेती करते हैं. यही वजह है कि बिहार लंबी भिंडी, शाही लीची, मखाना और मशरूम के उत्पादन में नंबर वन राज्य बन गया है. हालांकि, राज्य सरकार की तरफ से किसानों को बागवानी फसलों की खेती करने के लिए बंपर सब्सिडी भी दी जा रही है.

इसके लिए राज्य सरकार प्रदेश में कई तरह की योजनाएं चला रही हैं. इन योजनाओं के तहत किसानों को आम, लीची, कटहल, पान, अमरूद, सेब और अंगूर की खेती करने पर समय- समय पर सब्सिडी दी जाती है.

अभी बिहार सरकार मशरूम के ऊपर फोकस कर रही है. राज्य सरकार का मानना है कि मशरूम की खेती से प्रदेश के छोटे और सीमांत किसानों की इनकम बढ़ाई जा सकती है.

 

null

मशरूम एक बागवानी फसल है. इसकी खेती में बहुत कम लागत आती है. इसके खेती के लिए खेत और सिंचाई की जरूरत नहीं है. किसान भाई घर के अंदर भी मशरूम की उगा कर सकते हैं. प्रदेश में हजारों की संख्या में किसान घर के अंदर मशरूम उगा रहे हैं. इससे उनकी अच्छी कमाई हो रही है.

ऐसे भी मशरूम बैगन, लौकी, फूलगोभी और करैला सहित अन्य सब्जियों से महंगा बिकता है. ऐसे में मशरूम की खेती करने पर किसानों को कम मेहनत में ज्यादा फायदा होगा.

इस स्कीम के तहत दे रही है सब्सिडी

अभी बिहार में मशरूम की फार्मिंग करने वाले फार्मर्स के लिए सुनहरा मौका है. अभी कृषि विभाग एकीकृत बागवानी विकास मिशन योजना के तहत मशरूम कम्पोस्ट उत्पादन पर 50 फीसदी सब्सिडी दे रही है.

खास बात यह है कि राज्य सरकार ने कम्पोस्ट उत्पादन के लिए इकाई लागत 20 लाख रुपये निर्धारित की है. अगर किसान भाई इस योजना का लाभ लेना चाहते हैं, तो उद्यान निदेशालय के आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर आवेदन कर सकते हैं.

बिहार में 28000 टम मशरूम का उत्पादन किया गया था

अगर किसान भाई चाहें, तो अधिक जानकारी के लिए प्रखंड उद्यान पदाधिकारी या अपने जिले के सहायक उद्यान निदेशक से सम्पर्क कर सकते हैं.

बता दें कि बिहार का मशरूम उत्पादन में देश में पहला स्थान है. इसका बाद दूसरे नंबर पर ओडिशा है. पिछले साल बिहार में 28000 टम मशरूम की उपज हुई थी.