Old Coins Bazaar

1 जुलाई से क्रेडिट कार्ड रखने वालों के लिए लागू होंगे नए नियम, वित्त मंत्रालय ने किया बड़ा ऐलान

अगर आप क्रेडिट कार्ड इस्तेमाल करते हैं यह खबर आपके बड़े काम की है. क्योंकि हाल ही में क्रेडिट कार्ड से ट्रांजैक्शन पर 20 फीसदी टीडीएस का नियम इस साल लागू होने की पूरी संभावना बताई जा रही है. चलिए जानते हैं क्रेडिट कार्ड ग्राहकों पर कितना पड़ेगा असर...
 | 
1 जुलाई से क्रेडिट कार्ड रखने वालों के लिए लागू होंगे नए नियम

Old Coins Bazaar, Digital Desk Delhi अगर आप क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल करते हैं तो ये खबर आपके लिए बेहद खास हो सकती है।

हाल में नई जानकारी मिली है कि विदेशों में क्रेडिट कार्ड से ट्रांजैक्शन पर 20 फीसदी टीडीएस का नियम इस साल अप्रैल से लागू होने की संभावना हो रही है।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक इस नई प्रणाली को कब ले अमल में लाया जाएगा। इस बारे में काफी विचार विमर्श किया जा रहा है। दरअसल बीते महीने फाइनेंस मिनिस्टर ने FEMA के नियम में एक ऐसा संशोधन किया था। इसके तहत क्रेडिट कार्ड से विदेशों में ट्रांजैक्शन को लाइब्रलाइज्ड रेमिटेंस स्कीम में शामिल कर लिया गया था।

इसके दो मतलब हैं पहले कि यदि आप क्रेडिट कार्ड से विदेशों में ट्रांजेक्शन करते हैं तो आपको 20 फीसदी टीसीएस देना होगा। टीसीएस यानि कि टैक्स कलेक्टेड एट सोर्स, जो कि ट्रांजैक्शन करते समय ही आपसे वापस लिया जाएगा।

इसके बाद में आप इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करते समय क्रेडिट कार्ड के तौर पर क्लेम कर सकते हैं। दूसा प्रभाव ये हुआ है कि आपसे ले लिया जाएगा। इसके बाद आप इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करते समय वापस क्रेडिट कार्ड से विदेशों में किए जाने वाले खर्च भी शामिल होंगे।

ये दोनों ही व्यवस्था पहली जुलाई से लागू होनी थी। लेकिन रिपोर्ट के मुताबिक ये शायद ही जुलाई में लागू हो। अब इसको कब से लागू किया जाएगा। इस पर फाइनेंस डिपार्टमेंट विचार विमर्श कर रहा है।

मंत्रालय गाइडलाइंस कर रहा तैयार

सूत्रों के मुताबिक फाइनेंस डिपार्टेमेंट फिलहाल एक गाइडलाइंस तैयार कर रहा है जो कि क्रेडिट कार्ड के इंटरनेशनल ट्रांजैक्शन पर नजर रखने के लिए एक रूपरेखा का आधार बनेगा।

इसके बाद फिर से रिजर्व बैंक की ओर से बैंकों की गाइडलाइंस जारी की जाएगी। फिर हो सकती है बैंकों को इस गाइडलाइंस के हिसाब से अपने सॉफ्टवेयर में बदलाव भी करना पड़ें।

इसका अर्थ है कि अलग-अलग क्रेडिट कार्ड से होने वाले अलग-अलग ट्रांजैक्शन को कैसे एक साथ मिलाकर रीयल टाईम मॉनीटरिंग की जाए।

लग सकता है लंबा समय

वहीं क्रेडिट कार्ट पर टीसीएस काटने की व्यवस्था कैसे बनाएं यानि कि इसमें लंबा समय लग सकता है इसीलिए पहली जुलाई से क्रेडिट कार्ड के इंटरनेशनल ट्रांजैक्शन को एलआरएस के तहत लाने की संभावना कम है।

इसका अर्थ है कि ये जुलाई से क्रेडिट कार्ड के इंटरनेशनल ट्रांजैक्शन पर 20 फीसदी टीसीएस कटने की उम्मीद कम है। इसका अर्थ है कि आप विदेशओं में क्रेडिट कार्ड से जमकर शॉपिंग कर सकते हैं।